Politics

हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी के काफिले पर हुई गोलीबारी पर हुए कई खुलासे, देखें पूरी रिपोर्ट

नई दिल्ली: गुरुवार को गाजियाबाद के पास AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की कार पर कुछ हमलावरों द्वारा फायरिंग की गयी थी। हालांकि हमलावर अभी पुलिस की गिरफ्त में है। इस मामले को लेकर कुछ खुलासे हुए है और यह खुलासा गोली चलाने वाले आरोपियों से पुलिस  द्वारा पूछताछ से हुआ है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, आरोपियों से पूछताछ करने पर पता चला कि दोनों आरोपी पिछले काफी दिनों से असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) का पीछा कर रहे थे और हमले को अंजाम देने के लिए पहले से ही पूरी योजना बना रहे थे। इस दौरान केंद्र सरकार ने असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) के ऊपर खतरे को देखते हुए उन्हे जेड कैटेगरी की सुरक्षा देने का फैसला किया है।

कई दिनों से ओवैसी का पीछा कर रहें थे आरोपी

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, एक  आरोपी का नाम सचिन है, जो पिछ्ले कई दिनों से असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) के लगभग हर स्पीच को फॉलो करता था। दोनों आरोपी पिछले कई दिनों से ओवैसी का पीछा करते हुए उनकी सभाओं में भी मौजूद रहते थे।

आपको बता दें, पुलिस को पूछताछ में यह भी पता लगा कि,  दोनों आरोपी असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) की हाल में ही हुई मेरठ की सभा में भी मौजूद थे। जिसके बाद अब मेरठ में सभा स्थल के आस-पास के सीसीटीवी चेक किए जायेंगे।

कुछ दिन पहले ही हथियार खरीदकर, हमले प्लैननिंग कर रहे थे आरोपी

पुलिस सूत्रों से आई खबर के मुताबिक, इस वारदात को अंजाम देने के लिए आरोपियों द्वारा पूरी प्लानिंग की गई थी और यह अचानक की गई वारदात नहीं है। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि, दोनों आरोपी शायद ओवैसी की सभा में जाकर सदैव हमले की ताक में रहते थे, लेकिन अब तक उन्हे इसका मौका नहीं मिल पाया था।

बता दें, पुलिस ने बताया कि आरोपी सचिन ने कुछ दिन पहले ही हथियार खरीदे थे और अब पुलिस हथियार बेचने वाले को गिरफ्तार करने की कोशिश में जुटी है। बता दें दोनों आरोपियों का प्लान ये भी था कि फायरिंग करने के बाद भीड़ से बचाव के लिए सीधा पुलिस स्टेशन ही चले जायेंगे।

इतना ही नहीं दोनों आरोपियों से पूछताछ करने वाले पुलिस अधिकारी ने बताया की, “दोनों आरोपी वैचारिक तौर पर बेहद कट्टर हैं, सनकी भी कह सकते हैं।”

Asduddin Owaisi Car Attack

केंद्र सरकार द्वारा दिये जाने वाली सुरक्षा से ओवैसी ने किया साफ इंकार

असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने हमले के बाद कहा कि साल 1994 में मैं पहली बार विधानसभा का चुनाव जीतकर MLA बना था, लेकिन अब तक मैंने किसी भी प्रकार की कोई सुरक्षा नहीं ली है। मैं भविष्य में भी कभी कोई सुरक्षा नहीं लूँगा।

ओवैसी ने आगे कहा कि मेरी जान की हिफाजत करना सरकार की जिम्मेदारी है। जब मेरा वक्त आएगा तब मैं चला जाऊँगा। आगे उन्होने कहा, “मैं चुनाव आयोग से कहना चाहूँगा कि इस वारदात के पीछे कोई न कोई मास्टरमाइंड जरूर है। कुछ दिन पहले प्रयागराज में धर्म संसद में मेरी जान लेने की भी बात कही गई थी, जोकि ऑन रिकार्ड है, उसे भी देखा जाना चाहिए।”

गाजियाबाद के पास ओवैसी की कार पर हुई फायरिंग

आपको बता दें कि, गुरुवार को गाजियाबाद के पास पिलखुवा छिजारसी टोल प्लाजा पर AIMIM के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी  (Asaduddin Owaisi) के काफिले पर फायरिंग की घटना हुई थी। यह घटना उस समय हुई जब ओवैसी मेरठ में अपना चुनाव प्रचार खत्म कर दिल्ली वापस लौट रहे थे। हमलावरों की गोली असदुद्दीन ओवैसी की कार पर लगी। गोली लगते ही ओवैसी की गाड़ी पंक्चर हो गई। हालांकि, असदुद्दीन ओवैसी को किसी भी प्रकार कि कोई चोट नहीं आई। जिसके बाद ओवैसी दूसरी गाड़ी में दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

हमले की खबर प्राप्त होते ही पुलिस मौके पर पहुँच गई। साथ ही फॉरेंसिक विभाग की टीम भी कुछ ही देर में वहाँ आ गई। जाँच में जुटी पुलिस को जल्द ही कामयाबी मिल गई और हापुड़ पुलिस ने सचिन नाम के पहले आरोपी को हिरासत में ले लिया।

सूत्रों के हवाले से आई खबरों के मुताबिक, आरोपी सचिन नोएडा के बादलपुर का रहने वाला है।  साथ ही पुलिस ने आरोपी सचिन से वो हथियार भी बरामद कर लिया जिससे वारदात को अंजाम दिया गया था। बता दें कुछ ही घंटे बाद शुभम नाम के दूसरे हमलावर ने भी गाजियाबाद के सिहानी गेट थाने में खुद को सरेंडर कर दिया।

यह भी पढ़ें 

Desk Team

Desk Team is our official employee team who publishing the news for Rajdhani Mail.

Related Articles