Tuesday, July 16, 2024
HomeUTTARAKHANDबदरीनाथ, केदारनाथ और गंगोत्री में कार्यरत पर्यावरण मित्रों को दी जाए अतिरिक्त...

बदरीनाथ, केदारनाथ और गंगोत्री में कार्यरत पर्यावरण मित्रों को दी जाए अतिरिक्त गर्म वर्दी: प्रेमचंद

देहरादून: शहरी विकास मंत्री डॉ प्रेमचंद अग्रवाल ने चार धाम यात्रा मार्ग पर पड़ने वाले सभी 29 नगर निकायों की समीक्षा बैठक की। इस दौरान नगर निकायों के अधिकारी वर्चुअल रूप से जुड़े रहे।

शुक्रवार को शहरी विकास मंत्री डॉ प्रेमचंद अग्रवाल ने शहरी विकास निदेशालय में समीक्षा बैठक की। डॉक्टर अग्रवाल ने बताया कि गंगोत्री, बद्रीनाथ, केदारनाथ में ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के क्रम में क्यूआर कोड के जरिए खाली प्लास्टिक की बोतल ली जा रही है इसके बदले में 10 रुपए उन्हें दिया जा रहा है। डॉ अग्रवाल ने अन्य निकायों को इस तरह के अभिनव प्रयोग करने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि अभिनव प्रयोग करने वाले निकायों को निदेशालय की ओर से पुरस्कृत भी किया जाएगा।

डॉ अग्रवाल ने समीक्षा बैठक के दौरान निर्देशित करते हुए कहा कि गंगोत्री, बद्रीनाथ और केदारनाथ धाम पर तैनात पर्यावरण मित्रों को अतिरिक्त गर्म वर्दी दी जाए। समीक्षा बैठक के दौरान गंगोत्री नगर निकाय द्वारा श्रद्धालुओं के स्नान के बाद छोड़े गए कपड़ों से दरी आदि बनाने का कार्य किया जा रहा है, की सराहना भी की। इस दौरान नगर निकाय ऋषिकेश व हरिद्वार में अपशिष्ट पूजन सामग्री से अगरबत्ती व धूपबत्ती बनाने के कार्य को भी सराहा।

डॉ अग्रवाल ने सभी निकायों को निर्देशित करते हुए कहा कि निकाय अपने यहां स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं को अपने उत्पादों के स्टॉल लगाने का अवसर दें, जिससे उनकी आजीविका में वृद्धि होगी। डॉ अग्रवाल ने सभी निकायों को निर्देशित करते हुए कहा कि अपने यहां तीन चरणों में सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करें।

डॉ अग्रवाल ने कहा कि सभी निकायों में पथ प्रकाश, रेन बसेरा, भोजन आदि की व्यवस्था पर्याप्त है इसके अलावा निकायों को अपनी तैयारी पूर्ण रखने के लिए कहा गया है उन्होंने सभी निकायों के अधिकारियों को 24 घंटे अपने फोन ऑन रखने के लिए भी कहा है।

इस मौके पर प्रमुख सचिव शहरी विकास आरके सुधांशु, निदेशक शहरी विकास नितिन भदोरिया, अपर निदेशक ललित नारायण मिश्र, सहायक निदेशक विनोद कुमार, आलोक अवयाल, सुनील कुमार राय, मनोज पांडेय, धर्मेंद्र द्विवेदी, भुवन चंद्र जोशी, प्रदीप कुमार आदि अधिकारी उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES

Most Popular